What is Navic ? || भारत ने लॉन्च किया अपना खुद का GPS सेटेलाइट सिस्टम Navic || क्या है, और कैसे काम करता है, जानिए यहां…..

3
1279
what is Navic
what is navic
87

दोस्तों आज मुझे आर्टिकल लिखते काफी खुशी हो रही है और यहां पर हमारे भारत में लॉन्च कर दिया है अपना नया नेविगेशन सिस्टम जो है नाविक (What is NavIC). यहां पर इसका नाम नाविक (NavIC : Navigation with Indian Constellation) रखा गया है, और यहां पर यह इसरो द्वारा निर्मित किया हुआ एक नेवीगेशन सिस्टम है,अगर नाविक की बात करें तो नाविक वह होता है जो नाव को चलाता है तो उसी को आधार मानते हुए यहां पर इसका नाम नाविक रखा गया है यहां पर इसका नाम नाविक रखा गया है और अगर बात करते हैं इसकी स्पीड की तो यह जीपीएस के मुकाबले 2 गुना ज्यादा तेज है और आपको काफी सटीक जानकारी देता है अगर बात करते हैं इसकी जानकारी की यहां पर गए यहां पर यह 10 मीटर तक के ऑब्जेक्ट को आपको काफी अच्छे से दिखा सकता है और समुद्र की बात करें तो वहां पर यह 20 मीटर का होता है,

Navic kya hai ?

NavIC क्या है:

NavIC एक तरह का सेटेलाइट नेविगेशन सिस्टम है जिसकी मदद से हम पूरे भारत पर नजर रख सकते हैं और यहां पर यह भारत द्वारा निर्मित किया हुआ खुद का अपना नेविगेशन सिस्टम है जो जीपीएस से 2 गुना तेजी के साथ काम करता है, और यहां पर यह इसरो के द्वारा बनाया गया एक नेविगेशन सिस्टम है और यहां पर अगर बात की जाए कि इसको बनाने की जरूरत क्यों पड़ी तो यहां पर मैं आपको बताना चाहता हूं जब भारत में कारगिल का युद्ध हो रहा था तब भारत ने अमेरिका से नेविगेशन सिस्टम के लिए मदद मांगी थी, उस समय अमेरिका ने भारत की मदद करने से इनकार कर दिया था तभी से भारत के वैज्ञानिकों ने सोच लिया कि उन्हें अपना खुद का एक नेविगेशन सिस्टम बनाना होगा और अब जाकर यह लाइव हुआ है और काफी अच्छे से काम कर रहा है और यहां पर ही आपके आने वाले स्मार्टफोन में देखने को मिलने वाला है जिसमें से शायद रियल मी का 6 स्मार्टफोन भी हो सकता है जिसके बारे में आगे हम बात करेंगे तो यह थी एक कहानी इसी के पीछे की कि आखिर क्यों इस नाभिक के नेविगेशन सिस्टम को बनाया गया,

How Navic Works ?

NavIC कैसे काम करता है:

अगर बात की जाए इस Navic के काम करने के तरीके के बारे में तो यहां पर यह डुअल बैंड फ्रीक्वेंसी पर काम करता है जो कि जीपीएस से 2 गुना ज्यादा तेज है और आपको काफी सटीक जानकारी मिलती है, यहां पर इस पूरे सिस्टम के लिए 7 सैटेलाइट का उपयोग किया गया है जो आपको काफी सारी जानकारी इकट्ठा करके देते हैं, और यहां पर कहा यह भी जा रहा है कि आने वाले समय में इनकी संख्या बढ़ाकर 11 तक भी की जा सकती है तो आने वाले समय में देखा जाएगा कि कैसे लॉन्च होते हैं और कितनी संख्या इनकी बढ़ती है फिलहाल अभी तो इनकी संख्या 7 है और यह काफी अच्छे से काम भी कर रहा है,

Navic

NavIC किस फोन को सपोर्ट करेगा:

तो दोस्तों अगर बात करते हैं स्मार्टफोन की तो कौन से स्मार्टफोन होंगे वह जिनमें इस Navic का सपोर्ट होगा क्योंकि अगर बात करते हैं इस नेवी के नेविगेशन सिस्टम की एक तो उसके लिए हम को एक अलग से हार्डवेयर की जरूरत पड़ेगी तो यहां पर हमारे नॉर्मल जो स्मार्टफोन हैं उनमें यह सपोर्ट नहीं करने वाला है जो आने वाले स्मार्टफोन है तो वह इस सपोर्ट के साथ में आएंगे जैसे हमारे फोन में जीपीएस का ऑप्शन होता है उसी तरीके से हमारे फोन में एक नाविक का भी ऑप्शन दिया जाएगा जिसकी मदद से हम इसका उपयोग कर पाएंगे फिलहाल हमारे पास कुछ इंफॉर्मेशन है जो यह कहती है कि जो आने वाला Realme 6 Pro स्माटफोन होगा उसमें इसी नेवी का सपोर्ट होगा क्योंकि उसमें जो प्रोसेसर यूज़ किया जा रहा है क्योंकि उसमें जिस प्रोसेसर का उपयोग किया जा रहा है वह है स्नैप ड्रैगन का 720 G प्रोसेसर,

Navic

बाकी अगर बात करते हैं वर्तमान समय में उन प्रोसेसर के बारे में जो इसी Navic को सपोर्ट करते हैं तो यहां पर उन Processor की कुछ लिस्ट है जिनके जिन्हें देखकर आप समझ सकते कि जो यह प्रोसेसर हैं उसी NavIC को सपोर्ट करने वाले हैं,

Qualcomm 460
Qualcomm 662
Qualcomm 720 G
Qualcomm 765
Qualcomm 765 G
Qualcomm 865

तो यहां पर यह जितने ही प्रोसेसर मैंने ऊपर लिखे हुए हैं वह सारे NavIC को सपोर्ट करते हैं तो अगर आपको इनमें से कोई प्रोसेसर आपके स्मार्टफोन में लगा हुआ मिले तो आप समझ जाइए कि आपका स्मार्टफोन NavIC को सपोर्ट करता है, अगर आप सोच रहे हैं कि जो आपके पुराने प्रोसेसर हैं आपके जो पुराने स्मार्टफोन है और मैं आपको सपोर्ट क्यों नहीं मिलेगा तो यहां पर अभी जो नेविगेशन सिस्टम है उसके लिए आपको एक अलग से हार्डवेयर की जरूरत पड़ती है जो कि जितनी प्रोसेसर मैंने आपको पर दिखाए हुए हैं उन सभी में आपको मिलता है तो अगर बात करते हैं 865 प्रोसेसर की तो इसमें आपको वह हार्डवेयर देखने को मिलता है जहां पर जो यहां पर जो Realme X50 Pro स्माटफोन है उसमें आपको Qualcomm Snapdragon865 देखने को मिलता है तो उसमें आपको इसी नेवी का सपोर्ट देखने को मिलेगा जो कि आने वाले टाइम में आपको एक सॉफ्टवेयर अपडेट दे दिया जाएगा जिसके बाद आप उसमें नेवी को यूज कर पाएंगे यह वैसे ही काम करता है जैसे आपके आम जीपीएस काम करते हैं,

NavIC का फायदा क्या है:

जैसा की आप सभी को पता है कि जो नबी के एक तरीका नेविगेशन सिस्टम है जो नेविगेशन के लिए काम आने वाला है और यहां पर जिसकी रेंज है काशी हाई है काफी हाई है जो कि 5000 स्क्वायर किलोमीटर तक के एरिया को कवर कर देती है और यहां पर अगर बात करते इसके डाटा की तो यह पूरा इंडिया में ही रहने वाला है तो यह एकदम सुरक्षित है और यहां पर अगर बात करते हैं मिलिट्री ऑपरेशंस की तो यह 10 मीटर तक की स्थान को काफी साफ-साफ दिखा सकता है बाकी अगर बात करते हैं समुद्र की तो वहां पर यह जो ऊंचाई है वह 20 मीटर की हो जाती है, अगर फायदे की बात हो ही रही है तो आप सभी को पता है कि यह जीपीएस से 2 गुना ज्यादा तेजी से काम करता है, और सबसे बड़े फायदे की बात की यह जो नेविक है वह हमारे भारत द्वारा निर्मित किया हुआ खुद का सेटेलाइट सिस्टम है तो अब हम को किसी दूसरे देश से मदद मांगने की जरूरत नहीं पड़ेगी और हम खुद ही 5000 स्क्वायर किलोमीटर तक के एरिया को कवर कर सकते हैं.

तो यह थी इसी NavIC के बारे में काफी सारी जानकारी मुझे मिले आपको यह पसंद आई होगी अगर आपको यह जानकारी पसंद आई है तो इस आर्टिकल को लाइक कीजिए और शेयर कीजिए अपने दोस्तों के साथ में जो भी इस NavIC के बारे में जानना चाहते हैं और भारत के सम्मान को बढ़ाइए ……..

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here